X

VVF FULL FORM IN HINDI क्या है? VVF पूरी जानकारी

VVF Full Form in Hindi, VVF Ka Pura Naam Kya Hai, VVF क्या है, VVF Ka Full Form Kya Hai, VVF का Full Form क्या है,  VVF meaning, VVF क्या क्या कार्य होता है। इन सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में दिया जाएगा। 

नमस्कार दोस्तों ! आपका स्वागत है हमारे इस आर्टिकल में, जहां हम आपके लिए लेकर आए हैं एक बेहद ही महत्वपूर्ण जानकारी जिसके अंतर्गत हम आपको बताने वाले हैं VVF full form क्या है? आज के हमारे इस आर्टिकल में हम VVF के बारे में जानेंगें। यह भी जानेंगे की यह किस स्थिति में होता है और अगर यह एक समस्या है तो इसके निदान पर भी चर्चा करेंगे।

VVF क्या है? (What is VVF in Hindi?)

VVF महिलाओं में होने वाली एक बहुत ही असामान्य सी स्तिथि होती है या यूँ कहें कि एक प्रकार की बीमारी होती है, जिसमें bladder और vagina के बीच एक प्रकार की ओपनिंग बन जाती है जिससे होकर  urine लगातार  bladder से vagina में रिसता रहता है। इस स्तिथि में urination को नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है। यूरिन का रिसाव स्वतः होने लगता है।

VVF FULL FORM IN HINDI

VVF का फुल फॉर्म होता है Vesicovaginal fistula. यह एक बहुत असामान्य स्थिति है जिसमें वजाइना से निरंतर यूरिन का रिसाव होता रहता है और उसे नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है। महिलाओं में यह स्थिति ज्यादातर child birth के बाद आती है। कुछ अन्य कारण भी हो सकते हैं जैसे कि abdoman सर्जरी, radiation थेरेपी , vaginal इंफेक्शन, severe accidents आदि।

VVF के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of VVF in Hindi?)

 सामान्यतः VVF ज्यादा दर्द नहीं करता है, लेकिन ये कुछ अलग तरह की समस्याएं पैदा कर सकता है। इसी वजह से इसके लिए मेडिकल गाइडेंस जरूरत पड़ती है। अगर आपको Vesicovaginal fistula है (आपकी vagina और bladder के बीच एक ट्रैक्ट) है, तो मूत्र आपके मूत्राशय से आपकी vagina में लगातार रिसता रहेगा। यह आपको अपने पेशाब (असंयम) को नियंत्रित करने में असमर्थ बना सकता है। आपकी genitals में संक्रमण हो सकता है, और intercourse के वक़्त पेन भी हो सकता है। कुछ और छोटे लक्षण- हल्की बुखार, पेट दर्द, diarrhea, headache, vomitimg, having nausea आदि हैं।

VVF के कारण क्या हैं? (What are the causes of VVF in Hindi?)

 यह बीमारी मुख्य रूप से शरीर के टिशू प्रभावित होने की वजह से होती है। आइये ऐसी ही कुछ वजहों से आपको रुबरु कराते हैं-

बच्चे को जन्म देना( Childbirth)- बच्चे को जन्म देने के दौरान हो सकता है  स्ट्रेस की वजह से टिशू डैमेज हो जाए और ब्लैडर और वजाइना के बीच एक fistula( ट्रैक्ट ) बन जाए।

कई बार यह सर्जरी की कंप्लीकेशन्स के वजह से भी होती है। जैसे कि ब्लैडर या वजाइना की किसी प्रॉब्लम की सर्जरी के दौरान कोई कंप्लीकेशन्स आ जाए और यह स्तिथि उत्पन्न हो जाए।

Gynecological cancer मैं भी ऐसी स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

Radiation therapy की वजह से भी यह बीमारी हो सकती है।

Bowel diseases, diverticulitis के वजह से।

इसके अलावा यह बीमारी प्रसव के दौरान इंफेक्शन होने से भी हो सकता है। या किसी गंभीर एक्सीडेंट में चोट लगने की वजह से भी हो सकता है।

VVF को diagnose करने के लिए कौन से pathological tests किये जाते हैं? (What pathological tests are done to diagnose VVF?)

अधिकांश Vesicovaginal fistula सर्जरी के तुरंत बाद डिवेलप होते हैं और रोगी बहुत सारे यूरिन रिसाव की शिकायत करते हैं।

आपके डॉक्टर आमतौर पर बीमारी  ज्यादा अच्छे से समझने के लिए उस अंग की ध्यान से परीक्षा करेंगे।वे जो देखते हैं उसके आधार पर, वे imaging टेस्ट करवाने का सलाह  मरीज को देते हैं। सबसे आम टेस्ट pelvis का X-ray, या एक CT SCAN होगा जो शरीर के उस हिस्से में टिशू को उजागर करने के लिए Dye (जिसे कंट्रास्ट भी कहते हैं) का उपयोग करते हैं, जिससे source का पहचान  होता है। डाई को कुछ अरेंजमेंट करके आपके ब्लैडर में डाला जाता है। इसके अलावा भी निम्नलिखित में से कोई टेस्ट किये जा सकते हैं जिससे बीमारी का सही पता लग सके-

• Dye test- आपके डॉक्टर आपके ब्लैडर को dye के घोल से भर देंगे फिर वो आपको खाँसने या झुकने को कहेंगे, अगर आपको VVF हुआ तो dye आपके वजाइना में रिस जाएगी।

• Cytoscopy- आपके डॉक्टर एक पतली डिवाइस जिसे हम cytoscope कहते हैं, उसके माध्यम से आपके bladder और urethra की भी जांच कर सकते हैं।

• Flexible sigmoidoscopy:- इस टेस्ट में जो डिवाइस उपयोग में लाई जाती है वह एक पतली ट्यूब होती है जिसके टिप पर कैमरा लगा होता है। डॉक्टर इसका  ट्यूब काइस्तेमाल करके आपके रेक्टम तथा anus की जाँच करते हैं।

• Pelvic MRI- इस टेस्ट में MRI machine  के जरिये आपके vagina, bladder और fistula की पूरी इमेज ली जाती है।

Vesicovaginal fistula का इलाज क्या है? (What is the treatment of VVF in Hindi?)

 कुछ Fistula ऐसे होते हैं जो खुद से ठीक हो जाते हैं। कई बार जब  bladder fistula छोटा होता है तो डॉक्टर कैथेटर(urine निकालने वाली ट्यूब) डालते हैं जिससे fistula को अपने आप ठीक होने का समय मिल सके। वे Fistula को सील करने के लिए नेचुरल प्रोटीन से बने विशेष ग्लू या प्लग का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। fistula के कारण होने वाले संक्रमण के इलाज के लिए वे आपको एंटीबायोटिक भी दे सकते हैं।

VVF के बहुत सारे पेशेंट को surgery की जरूरत पड़ती है। surgery कैसी होगी यह इस बात पर निर्भर करता है कि fistula किस टाइप का है। सर्जरी और भी कई बातों पर निर्भर करती है।

Vaginal fistula जो आपके rectum से कनेक्ट होता है उसके लिए डॉक्टर आपके fistula के ऊपर एक विशेष प्रकार का पैच लगा सकते हैं या आपके शरीर के किसी और पार्ट से टिशू को लेकर उस जगह को सील कर सकते हैं। इसके अलावा स्वस्थ टिशू के फ्लैप का भी यूज़ कर सकते हैं।

तो कुल मिलाकर निष्कर्ष यह निकलता है कि ये खतरनाक डिजीज नहीं है जो कि बहुत दर्द दे या जिनका उपचार बहुत करना डॉक्टरों के लिए ज्यादा मुश्किल हो। फिर भी अगर सही वक़्त पर अच्छे डॉक्टर की सलाह न ली जाए तो ये और यह दुसरी बीमारियों की जड़ बन सकती है साथ ही यह मानसिक स्वास्थ्य पर भी गहरा असर डालता है।

HIV FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है HIV, पूरी जानकारी

निष्कर्ष (Conclusion)

हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी, जिसमें हमने VVF full form क्या है? के बारे में बताया है। इसके अलावा VVF क्या है? (What is VVF in Hindi?) से संबंधित सभी महत्वपूर्ण विषयों की जानकारी दी है जो इससे संबंधित है। हम आशा करते हैं कि आपने जिस उद्देश्य के इस पोस्ट को पढ़ा वो आपकी पूरी हुई होगी।

इसी तरह की अन्य जानकारियां प्राप्त करने के लिए जुड़े रहे हैं हमारे ब्लॉग से। इसके अलावा आप चाहे तो VVF क्या है? (What is VVF in Hindi?) की जानकारी सोशल मीडिया अकाउंट पर भी शेयर कर सकते हैं, जिसे ज्यादा से ज्यादा लोग इसकी जानकारी प्राप्त कर सकें।

Diwakar Prajapati: