RAS FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है RAS, पूरी जानकारी

Spread the love
  • 1
    Share

RAS Full Form in Hindi, RAS Ka Pura Naam Kya Hai, RAS क्या है, RAS Ka Full Form Kya Hai, RAS का Full Form क्या है,  RAS meaning, RAS क्या क्या कार्य होता है।आज इन सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में दिया जाएगा। 

दोस्तों! यदि आप जानना चाहते हैं कि RAS full form in Hindi क्या है और इसके बारे में जानने के लिए काफी उत्साहित हैं तो हम आपके लिए एक बेहतरीन आर्टिकल लेकर आए हैं जिसमें RAS full form in Hindi के साथ-साथ इसकी सभी जानकारी लेकर हम उपलब्ध करवा रहे हैं, जिसकी मदद से आप RAS के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

RAS full form क्या होता है? इसे जानने के लिए बेहद जरूरी है कि RAS full information in Hindi के बारे में संपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाई है। RAS के अंतर्गत हम निम्नलिखित बातें बताने वाले हैं –

1. RAS का फुल फॉर्म क्या है? (Full Form Of RAS in Hindi)

2. RAS क्या है? (What Is RAS in Hindi?)

3. RAS का चुनाव कैसे होता है? (How is the RAS selected in Hindi?)

4. RAS के अधिकारी के कार्य क्या हैं? (What are the functions of RAS Officer in Hindi?)

5. RAS अधिकारी का वेतन कितना है? (What is the salary of RAS officer in Hindi?)

RAS का फुल फॉर्म क्या है? (RAS FULL FORM IN HINDI)

दोस्तों! RAS का Full Form जानने के लिए बेहद उत्सुक होंगे तो हम बता देंगे इसका पूरा नाम Rajasthan Administration Services होता है। इसे हिंदी में राजस्थान प्रशासनिक सेवा कहा जाता है। 

RAS क्या है? (What Is RAS in Hindi?)

RAS क्या है? के बारे में बात करें तो जिस प्रकार हर राज्य की एक राज्य सिविल सेवा सर्विस होती है, उसी प्रकार राजस्थान की राज्य सिविल सेवा राजस्थान प्रशासनिक सेवा है जिसे RAS कहा जाता है। RAS की शुरुआत सन 1950 ईस्वी में हुई थी। प्रत्येक RAS अधिकारी को क्या-क्या करना चाहिए इसके लिए उन्हें राजस्थान राज्य लोक प्रशासन संस्थान से 2 साल के लिए ट्रेनिंग करनी पड़ती है। ट्रेनिंग के दौरान एक अधिकारी को उसके काम करने के तरीके को सिखाया जाता है।

RAS कैडर को नियंत्रण करने का कार्य कार्मिक विभाग राजस्थान के द्वारा किया जाता है। इस सेवा की प्रमुख व्यक्ति चीफ सेक्रेटरी अर्थात मुख्य अधिकारी होते हैं। राजस्थान में कई सारे डिपार्टमेंट उपलब्ध है जिनको संभालने अथवा सुचारू रूप से चलाने के लिए एक आर ए एस अधिकारी की जरूरत होती है। RAS FULL FORM IN HINDI

RAS का चुनाव कैसे होता है? (How is the RAS selected in Hindi?)

RAS अधिकारी का चुनाव राजस्थान द्वारा आयोजित एक एग्जाम के द्वारा किया जाता है जिसमें कई सारे होनहार विद्यार्थियों का चयन किया जाता है तथा उन्हें उनकी काबिलियत के अनुसार अलग-अलग पद दिया जाता है। राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी बनने के लिए जो परीक्षा ली जाती है वह तीन चरणों में होते हैं जो इस प्रकार हैं:-

RIP FULL FORM IN HINDI ? RIP KA PURA NAAM

  1. Prelims- RAS के लिए प्रथम चरण प्रि एग्जाम होता है। इस परीक्षा में सिर्फ और सिर्फ एक ही प्रकार का पेपर होता है जिसमें 150 बहुविकल्पीय प्रश्न आते हैं। इस परीक्षा का समय 3 घंटा होता है। इस परीक्षा में इतिहास, भूगोल, राजनीति, अर्थशास्त्र तथा करंट अफेयर्स से जुड़े प्रश्न पूछे जाते हैं। दुसरे चरण के परीक्षा में प्रवेश पाने के लिए परीक्षार्थी को pre एग्जाम कट ऑफ क्लियर करना ही पड़ता है।
  1. Mains- राजस्थान प्रशासनिक सेवा की दूसरे चरण के परीक्षा में 4 पेपर होते हैं –

     General studies 1

     General studies 2

     General studies 3

     General Hindi/General English

इसमें भी सभी पेपर 3 घंटे का होता है हर एक पेपर 200 मार्क्स का होता है। तीसरे चरण के परीक्षा में प्रवेश करने के लिए यह परीक्षा जोकि mains कहलाता है को उत्तीर्ण करना अत्यंत आवश्यक है।

  1. Interview- यह परीक्षा एक प्रकार का इंटरव्यू होता है। राजस्थान प्रशासनिक सेवा के परीक्षा का यह अंतिम चरण होता है। इंटरव्यू एक बड़े अधिकारी या सेवानिवृत्त आर ए एस अधिकारी के द्वारा लिया जाता है। इंटरव्यू लेने के लिए दो या 3 व्यक्तियों के जरूरत होती है। इंटरव्यू में कैंडिडेट का जानकारी की क्षमता, आत्मविश्वास, मुश्किल परिस्थितियों में काम करने की काबिलियत तथा भविष्य के बारे में सोच और विचार पर प्रश्न की जाते हैं। प्रत्येक कैंडिडेट को उसके प्रश्न के जवाब देने के तरीके के अनुसार मार्क्स दिए जाते हैं। अंत में मेरिट के आधार पर अंतिम चुनाव किया जाता है।

RAS अधिकारी बनने के लिए कैंडिडेट के पास कुछ शैक्षणिक गुण होने ही चाहिए जैसे कि कैंडिडेट के पास किसी भी विषय का ग्रेजुएशन पूर्ण होना चाहिए। कैंडिडेट एक भारतीय नागरिक ही होना चाहिए। यदि कैंडिडेट आरक्षण का फायदा लेना चाहता है तो उसे राजस्थान की नागरिकता हासिल होनी चाहिए। कैंडिडेट की उम्र कम से कम 21 वर्ष होनी चाहिए तथा अधिकतम 40 वर्ष तक दी जाती है। वह इस दौरान कई बार परीक्षा दे सकता है।

RAS के अधिकारी के कार्य क्या हैं? (What are the functions of RAS Officer in Hindi?)

आर ए एस के अधिकारी को उनके पद के अनुसार कार्य दिए जाते हैं। हर एक आर ए एस अधिकारी को अपने कार्य करने के लिए कुछ कर्तव्य तथा इमानदारी का पालन करना होता है। लगभग सभी अधिकारियों के कार्य कुछ कुछ एक जैसे होते हैं बस उनका पद अलग-अलग होता है। आर ए एस अधिकारियों के कार्य निम्न प्रकार के हैं –

1. राज्य नीति निर्माण करना आर ए एस अधिकारी का महत्वपूर्ण कार्य होता है।

2. इसके अलावा राज्य नीति लागू करना भी आर ए एस अधिकारी का कार्य है।

3. राज्य लोक प्रशासन से संबंधित सभी कार्य RAS अधिकारी करते हैं।

4. राज्य नौकरशाही शासन की जिम्मेदारी मुख्य रूप से RAS अधिकारी पर होती है।

5. RAS अधिकारी राज्य सचिव सहायता करना भी है।

RAS अधिकारी का वेतन कितना है? (What is the salary of RAS officer in Hindi?)

हर एक अधिकारी को 2 साल के प्रोबेशन पीरियड से गुजरना पड़ता है। इस दौरान उन अधिकारियों की वेतन बहुत कम होती है। इस दौरान उन्हें किसी प्रकार का अलाउंस नहीं मिलता है। किसी अधिकारी के बेसिक वेतन ₹39,300 होती है जिसमें से हर एक अधिकारी के 10% पीएफ फंड के लिए काटे जाते हैं। हर 1 वर्ष में अधिकारियों की वेतन बढ़ती रहती है। अधिकारियों की काबिलियत के अनुसार उन्हें प्रमोशन भी दिया जाता है जिससे उनकी वेतन और बढ़ती जाती है। इस प्रकार आपको आर ए एस अधिकारी के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी और आप समझ चुके होंगे कि इस अधिकारी के पद एवं पावर के बारे में जान चुके होंगे।

Conclusion

तो दोस्तों, आपको  के बारे में जानकारी हिंदी में। अच्छी लगी होगी हमे उम्मीद है इस पोस्ट को पढ़ कर आप RAS full form In Hindi ( RAS मीनिंग इन हिंदी) समझ गए होंगें और अब अगर आपसे कोई पूछेगा कि  RAS का मतलब क्या होता है? तो अब आप उसे RAS मीनिंग इन हिंदी बता सकेंगे।

अगर आपको हमारा ये  RAS Information In Hindi पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी ज़रूर Share कीजिए और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल हो, तो उसे Comment में लिख कर हमें बताए।


Spread the love
  • 1
    Share
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  

Leave a Comment