NPA FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है NPA, पूरी जानकारी

Spread the love
  • 1
    Share

NPA Full Form in Hindi, NPA Ka Pura Naam Kya Hai, NPA क्या है, NPA Ka Full Form Kya Hai, NPA का Full Form क्या है,  NPA meaning, NPA क्या क्या कार्य होता है।आज इन सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में दिया जाएगा। 

दोस्तों! क्या आप नहीं जानते कि NPA full form in Hindi क्या है और इसके बारे में जानना चाहते हैं? यदि आपका जवाब हां है तो हम आपके लिए इस आर्टिकल में NPA full form in Hindi के अलावा इसकी सभी जानकारी लेकर आए हैं जिसकी मदद से आप इसके सभी पहलुओं की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

NPA full form क्या होता है? इसे जानने के लिए आप इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें क्योंकि यहां हमने NPA full information in Hindi के बारे में संपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाई है। इसके अंतर्गत बताए जाने वाले विषय निम्नलिखित हैं –

1. NPA full form kya hai? पूरी जानकारी हिंदी में

2. NPA क्या है? (What is NPA in Hindi?)

3. NPA Account के ग्राफ की जानकारी (Information about NPA Account in Hindi)

4. NPA कितने प्रकार का होता है? (What are the types of NPA in Hindi)

1. NPA full form kya hai? पूरी जानकारी हिंदी में

NPA full form kya hai? की बात करें तो बता दें कि NPA full form Non Performing Asset है। इसके अलावा आपको यह भी बता दें कि NPA को हिंदी में नॉन परफॉर्मिंग ऐसेट कहा जाता है।

आज के इस आर्टिकल में हम आपको NPA से जुड़ी कई जानकारियों को बताएंगे। यदि आप NPA के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो चलिए आगे बढ़ते हैं।

2. NPA क्या है? (What is NPA in Hindi?)

NPA kya hai इसके बारे में जानना उनके लिए काफी जरूरी है, जो बैंको से व्यवसाय के लिए ज्यदतार लोन लेते हैं और आम लोगों के लिए भी जानना बहुत ही आवश्यक है। यदि आपने बैंक का ऋण नहीं चुकाया है, तो आप भी NPA की श्रेणी में आ सकते हैं।

NPA वर्ड इंडिया में बहुत चर्चित है, क्योंकि जब इकोनॉमिक्स टॉपिक की बात होती है, तो सबसे पहले इसी टॉपिक पर बात होती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि ललित मोदी, विजय माल्या और नीरव मोदी इससे ही संबंधित हैं।

NPA का मतलब है, एक ऐसा एसेट जो अब किसी काम का नहीं और बैंक उस एसेट को वापस लेने में भी सक्षम नहीं हैं। यहां पर यह सवाल निकल कर आता है, कि बैंक तो पैसा देता है लोन के रूप में तो एसेट कैसे हो गया।

इसका जवाब यह है कि, बैंक जो पैसे लोगो को ब्याज के रूप में देते हैं, बैंकिंग टर्म में उस पैसे को एसेट माना जाता है। एनपीए से पहले हम एसेट के बारे में जानेंगे, एसेट होता क्या है ? एसेट मतलब संपत्ति। कोई भी बिजनेस जिससे की इनकम होती है। उसे ऐसेट कहा जाता है, जैसे आपका कोई व्यवसाय होगा और उससे आपका इनकम होगा उसी तरह बैंक लोन का एसेट होता है।

यदि वही लोन बैंक ने बिजनेस के लिए दिया जाए और उसे टाइम पर नहीं चुकाया जाए तो, यह कुछ समय बाद बैंक के लिए एनपीए बन जाता है। जब अकाउंट एनपीए की टाइप में होता है तो समझिए की उस पैसे को अपने इंडियन इकोनॉमिक में कोई भी योगदान नहीं मिल रहा है। अब इसमें सोचने की बात यह है कि, जब एक इंसान 1 या ₹5,00000 का लोन लेता है और उसका इंटरेस्ट नहीं भर पाता है, तो बैंक वाले कारवाई दिखाते हुए अपने हद पार कर देते हैं। लेकिन जब कोई व्यक्ति करोड़ों रुपया लेकर देश छोड़कर भाग जाते हैं और गवर्नमेंट तब नोटिस देती हैं, जब वह भाग जाता हैं।

IDK FULL FORM IN HINDI ? IDK FULL FORM IN HINDI

3. NPA Account के ग्राफ की जानकारी (Information about NPA Account in Hindi)

NPA Account के ग्राफ की जानकारी के मुताबिक बात करें तो पिछले लगभग 3 सालों से इस एनपीए अकाउंट का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है । दिल्ली के आरटीआई एक्टिविटीज द्वारा दिल्ली के आरटीआई से देश में 50 कंपनियों का एनपीए अकाउंट का खुलासा हुआ। यह कंपनी जो बैंक से लोन लेती है और फिर नहीं चुका पाती है यह बिजनेस का ना चलने का कारण बताता है। NPA FULL FORM

NPA किसी बैंक द्वारा किसी कर्जदार को दिया हुआ वह अर्नजक सम्पत्ति होती हैं, जो कर्जदार द्वारा लौटाना संदिग्ध माना जा रहा है। किन्तु उस बैंक की नियमित्ता के अनुसार वसूली प्रक्रिया चालू है।

अब हम एक साधारण भाषा में समझते हैं कि एनपीए होता क्या है? एनपीए शब्द का प्रयोग बैंक सेक्टर में अधिकतर किया जाता है। जिसमें बैंक के तरफ से अकाउंट होल्डर को नोटिस भेजा जाता है कि आपका अकाउंट अब एनपीए हो गया जिसमें लोन की रकम जमा करने की अवधि समाप्त होने के लगभग 90 दिन के बाद बैंक के तरफ से नोटिस भेज दिया जाता है और साफ-साफ बताया जाता है कि आप अपने लोन की बची हुई रकम जल्द से जल्द चुकाइए वरना बैंक आपके साथ आगे की कार्रवाई करेगी।

कर्जदार बैंक को उसके समय के अनुसार लोन रीपेमेंट नहीं करती है, तो वह पूंजी बैंक के लिए एनपीए कहलाती है। इसका मतलब यह हुआ की बैंक को इससे इनकम आना बंद हो गया । यदि बैंक ने उसे एनपीए घोषित कर दिया तो, बैंक के हिसाब से वह नॉन परमानेंट एसेट कहलाएगा।

4. NPA कितने प्रकार का होता है? (What are the types of NPA in Hindi)

NPA विभिन्न प्रकार के होते हैं लेकिन मुख्यता बैंक NPA को तीन भागों में विभाजित किया गया है, जो निम्नलिखित है –

1. Sub Standard Asset

2. Doubtful Asset

3. Loss Asset

1. सब स्टैंडर्ड ऐसेट: इसमें एनपीए 90 दिन से लेकर 1 साल के अंदर तक का रहता है। ऐसे एनपीए खाते 1 साल से पहले खत्म हो जाते हैं या 1 साल तक बच जाते हैं।

यदि कर्जदार 1 साल के अंदर ही अपना रुका हुआ लोन खत्म कर देता है तो, यह सब स्टैंडर्ड एसेट कहलाता है।

2. डाउटफुल ऐसेट: डाउटफुल ऐसेट में उस तरह का लोन को रखा जाता है, जिसमें 1 साल तक कोई भी ब्याज नहीं आता है। देनदार लोन को चुकाने की बात करता है, लेकिन अपना लोन चुकता नहीं है। इसलिए इस तरह के ग्राहकों को डाउट फूल कहा जाता है।

3. लॉस एसेट: लॉस एसेट में ब्याज नाम का तो कोई चीज ही नहीं होता है। उसमें ब्याज नहीं मिलता है। बैंक उसको लॉस में डाल देते हैं । इस तरह के एनपीए लोंस राइट ऑफ नहीं होती।

Conclusion

तो दोस्तों, आपको  के बारे में जानकारी हिंदी में। अच्छी लगी होगी हमे उम्मीद है इस पोस्ट को पढ़ कर आप NPA

 full form In Hindi (NPA मीनिंग इन हिंदी) समझ गए होंगें और अब अगर आपसे कोई पूछेगा कि NPA का मतलब क्या होता है? तो अब आप उसे NPA मीनिंग इन हिंदी बता सकेंगे।

अगर आपको हमारा ये NPA Information In Hindi पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी ज़रूर Share कीजिए और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल हो, तो उसे Comment में लिख कर हमें बताए।


Spread the love
  • 1
    Share
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  

Leave a Comment