INC FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है INC, पूरी जानकारी

Spread the love
  • 1
    Share

INC Full Form in Hindi, INC Ka Pura Naam Kya Hai, INC क्या है, INC Ka Full Form Kya Hai, INC का Full Form क्या है,  INC meaning, INC क्या क्या कार्य होता है। इन सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में दिया जाएगा। 

दोस्तों! यदि आप अब तक नहीं जानते कि INC full form in Hindi क्या है और इसके बारे में जानने के लिए काफी उत्साहित हैं तो हम आपके लिए इस आर्टिकल में INC full form in Hindi के साथ-साथ इसकी सभी जानकारी लेकर आए हैं जिसकी मदद से आप इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

INC full form क्या होता है? इसे जानने के लिए आप इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें क्योंकि यहां हमने INC full information in Hindi के बारे में संपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाई है। INC के अंतर्गत चुनिंदा विषय निम्नलिखित हैं-

1. INC का फुल फॉर्म क्या है?(Full Form Of INC in Hindi)

2. INC क्या है? (What Is INC in Hindi?)

3. Incorporated होने का क्या मतलब है ? (What does it mean to be incorporated in Hindi?)

4. Incorporation के चरण (Stages of Incorporation in Hindi)

5. Incorpotion के गुण क्या हैं? (What are the advantage of Incorpotion in Hindi?)

6. Incorporation के अवगुण क्या हैं? (What are the disadvantage of Incorporation in Hindi?)

INC का फुल फॉर्म क्या है? ( INC Full Form in Hindi )

INC का full form Incorporated (इनकॉर्पोरेटेड) होता है जिसका हिंदी शब्दार्थ निगमित होता है।

INC क्या है? (What Is INC in Hindi?)

किसी भी व्यवसाय को शुरू करते समय उसका मालिक उस व्यवसाय की संरचना का निर्धारण partnership, corporation, sole proprietor या limited liability company (LLC) के रूप में कर सकता है। ऊपर दिये गए विभिन्न संरचनाओं में से सिर्फ corporation की यूनिट ही पूरी तरह से अलग एक कानूनी यूनिट है। हमें incorporation को लेकर किसी भी निर्णय को लेने से पहले उसके कई फायदे एवं नुकसानों पर विचार करना चाहिए।

 जब भी किसी कम्पनी के नाम के पश्चात “Inc” अक्षर जुड़ा होता है तो इसका अर्थ यह होता है कि उस कम्पनी को incorporated कर लिया गया है। इसके अलावा कम्पनी के नाम के बाद भी कुछ ऐसे अन्य संक्षिप्त रूप होते हैं जो जुड़ सकते हैं। किसी Incorporated का Inc. संक्षिप्त रूप होता है। कोई भी incorporated कम्पनी या corporation का कानूनी यूनिट उसे बनाने वाले व्यक्ति विशेष या लोगों से बिल्कुल अलग होता है। कम्पनी के director एवं chief व्यापार में शेयर खरीदते हैं एवं उसे संचालित करने की responsibilities लेते हैं जबकि incorporation किसी मुकदमे के मुद्दे पर एक व्यक्ति के liability को सीमित करता है। INC Full Form in Hindi

 Corporation एक कानूनी यूनिट के तहत कार्य करता है जिसके अंतर्गत वह अपने स्वयं के कर्ज अथवा ऋण के लिए उत्तरदायी होता है एवं अपने benefits पर ही taxes को pay करता है और जब धन की कमी हो तो धन जमा करने के लिए स्टॉक भी बेच सकता है। कोई भी corporation एक स्टॉक या निर्देशक को बेचने के पश्चात एक यूनिट के तौर पर जारी रखने में capable होता है। किसी भी corporation का गठन incorporation के लेख दाखिल करने एवं राज्य के secretary को आवेदन करने के माध्यम से उस राज्य के नियम व कानून के अनुसार किया जाता है।

 चूँकि किसी भी corporation को प्रशासित करने के लिए अधिक लागत की आवश्यकता होती है एवं इसकी प्रक्रिया भी कानूनी रूप से काफी जटिल होते हैं इसलिए यू.एस. लघु व्यवसाय की यह सिफ़ारिश है कि कोई भी छोटे व्यवसाय जब तक एक बड़ी कम्पनी के रूप में अपना पहचान नहीं बना लेते तब तक incorporation में शामिल नहीं होंगे। ज्यादातर राज्यों में corporations को अपने व्यवसायिक नाम के पश्चात Inc. जैसे corporate पदनाम add करने चाहिए।

NBA FULL FORM IN HINDI ? NBA KA PURA NAAM

Incorporated होने का क्या मतलब है ? (What does it mean to be incorporated in Hindi?)

जब किसी कम्पनी को incorporated किया जाता है तो उसका अर्थ यह होता है कि उस कम्पनी ने at least किसी एक राज्य के कानूनों के तहत खुद को corporation के रूप में पहचान दी है, साथ ही उस कम्पनी ने उस राज्य के साथ सभी जरूरी कानूनी दस्तावेज दाखिल किये हैं। इसका मतलब यह है कि वह कम्पनी IRS एवं सरकार की नजर में corporation के रूप में कार्य कर रही है। किसी भी incorporate की गई कम्पनी को corporations से सम्बंधित जितने भी कानून हैं उन सभी कानूनों का अनिवार्य रूप से पालन करना होता है।

Incorporation के चरण (Stages of Incorporation in Hindi)

जब भी कोई कम्पनी या व्यवसाय खुद को incorporate करना चाहती है तो सबसे पहले उसे उस राज्य का चुनाव करना होता है जिस राज्य में वह खुद को incorporate करने की इच्छा रखता है, इसके पश्चात इसके लिए विभिन्न बातों का ध्यान रखना होता है –

~ बिजनेस नाम : Corporation को किसी एक नाम का चयन करना होता है और साथ ही इस बात का भी विशेष ध्यान रखना होता है कि वह नाम पहले से ही उस राज्य में किसी भी corporation के द्वारा ना रखा गया हो।

~Types of Corporation : इसके बाद कम्पनी को यह चुनना होता है कि वह कम्पनी किस प्रकार का corporation होगा, जैसे कि – एक S Corporation (इसमें कर देयता pass-through होती है इसलिए corporation tax pay नहीं करता परन्तु shareholder tax pay करते हैं), दूसरा C Corporation (इसमें corporation ही tax pay करता है) और तीसरा LLC (Limited Liability Company)।

~ निदेशक मंडल : निदेशक मंडल में उन लोगों को चुना जाना होता है जो काम करने वाले होते हैं।

~ Shares : Corporation को यह तय करना होता है कि वह अपने shareholders को किस तरह के shares issue करेगा, इसमें पसन्दीदा share, साधारण share, वोटिंग अधिकारों के साथ या बिना किसी share के भी शामिल हुआ जा सकता है।

~ पंजीकृत प्रतिनिधि : उस कम्पनी को उस राज्य सीमा के अंदर किसी को नामित करना होता है जो corporation की तरफ से कानूनी दस्तावेज प्राप्त कर सके।

~ Articles of Incorporation : किसी भी कम्पनी को उस राज्य के सरकार एवं प्रशासनिक व्यवस्था के साथ incorporation के लेखों को फाइल अथवा दाखिल करना होता है और तय किये गए शुल्क का भुगतान करना होता है।

~ By laws : किसी भी corporation के पास by laws होना जरूरी होता है जो इस बात के नियम होते हैं कि वह अपने व्यवसाय का संचालन किस प्रकार से करेगी।

~ share issue करना : उस corporation का गठन होने के बाद shareholders को स्टॉक issue किया जा सकता है।

Incorpotion के गुण क्या हैं? (What are the advantage of Incorpotion in Hindi?)

अपने स्टॉक की बिक्री करके corporation ज्यादा सरलता से पूँजी जमा कर सकते हैं। स्टॉक कई categories में हो सकता है, जैसे कि – मुआवजे के लिए, कर्मचारियों को पुरस्कार देने के लिए एवं इसके अलावा सार्वजनिक रूप से कारोबार किये जाने के लिए परन्तु यह corporation के सही कदम उठाने पर ही निर्भर करता है।

 Corporations के पास कम्पनी के मालिकों से अलग credit rating भी होती है। Corporations की कुछ स्वास्थ्य सम्बन्धित लाभों के लिए पहुँच है, उदाहरण के तौर पर इसमें कर्मचारी स्वास्थ्य सेवा एवं अन्य फ्रिंज लाभों के लिए Tax Right-Off आते हैं। 

  Corporation के सबसे बड़े फायदे में से एक उसका tax pay करना है। कम्पनी के मालिकों के पास देयता संरक्षण सीमित होती है, इसका अर्थ है कि ऋण जमा करने के लिए लेनदारों की व्यक्तिगत सम्पत्ति के बाद लेनदार वापस नहीं आ सकते हैं। यदि उस व्यवसाय में मुकदमा दर्ज होता है तो वही नियम लागू होता है।

Incorporation के अवगुण क्या हैं? (What are the disadvantage of Incorporation in Hindi?)

Corporation जब किसी राज्य के साथ शामिल हो जाते हैं तो अन्य व्यवसायिक संस्थाओं की तुलना में इसे उच्च फाइलिंग शुल्क का भुगतान करना पड़ता है। Corporations को भी Incorporation के लेख, मान्यूट और वार्षिक बैठक मिनट, resolution, उपनियम, shareholders के साथ बातचीत एवं yearly report जैसे अधिक record रखने चाहिए। इसके साथ ही उस राज्य को क्या चाहिए, इसके निर्धारण के लिए उसे स्थानीय सचिव से सम्पर्क करना होता है।

Conclusion

तो दोस्तों, आपको  के बारे में जानकारी हिंदी में। अच्छी लगी होगी हमे उम्मीद है इस पोस्ट को पढ़ कर आप INC full form In Hindi (INC मीनिंग इन हिंदी) समझ गए होंगें और अब अगर आपसे कोई पूछेगा कि INC का मतलब क्या होता है? तो अब आप उसे INC मीनिंग इन हिंदी बता सकेंगे।

अगर आपको हमारा ये INC Information In Hindi पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी ज़रूर Share कीजिए और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल हो, तो उसे Comment में लिख कर हमें बताए।


Spread the love
  • 1
    Share
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  

Leave a Comment