ICICI FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है ICICI, पूरी जानकारी

Spread the love

ICICI Full Form in Hindi, ICICI Ka Pura Naam Kya Hai, ICICI क्या है, ICICI Ka Full Form Kya Hai, ICICI का Full Form क्या है,  ICICI meaning, ICICI क्या क्या कार्य होता है।आज इन सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में दिया जाएगा। 

हेल्लो दोस्तों ! ICICI बैंक का नाम तो सभी ने सुना होगा पर क्या इसके फुल फॉर्म के बारे मे आपने सुना है, शायद नहीं। आज के समय में सभी लोगों का किसी ना किसी बैंक मे अकाउंट अवश्य होता है। कई लोगों का तो 1 से अधिक बैंकों मे भी अकाउंट होता है। परन्तु ज्यादातर लोगों को अपने बैंक का फुल फॉर्म ही नहीं पता होता है।  तो चलिए आज ICICI बैंक के फुल फॉर्म के बारे मे जानते हैं साथ ही इसकी विस्तृत जानकारी भी प्राप्त करेंगे।

ICICI का फुल फॉर्म (ICICI FULL FORM IN HINDI) – 

ICICI का फुल फॉर्म “INDUSTRIAL CREDIT AND INVESTMENT CORPORATION OF INDIA” होता है। आईसीआईसीआई बैंक एक प्राइवेट बैंक है जो एक बहुराष्ट्रीय बैंक और वित्तीय कम्पनी भी है। ICICI बैंक भारत का दूसरा सबसे बड़ा प्राइवेट बैंक है। इसका हेडक्वार्टर ऑफिस  मुंबई, महाराष्ट्र में है और रजिस्टर ऑफिस वडोदरा, गुजरात में है।

आईसीआईसीआई बैंक का हिंदी रूपांतरण “औद्योगिक ऋण और निवेश निगम “ होता है ।

ICICI बैंक का इतिहास –

ICICI बैंक की स्थापना INDUSTRIAL CREDIT AND INVESTMENT CORPORATION OF INDIA ( ICICI ) ,एक इंडियन फाइनेंसियल इंस्टिट्यूशन के द्वारा  एक पूर्ण सब्सिड्री कम्पनी के रूप मे सन 1994 में वडोदरा में किया गया था। परन्तु इसकी पेरेंट कम्पनी की स्थापना सन 1955 में वर्ल्ड बैंक, इंडिया के पब्लिक सेक्टर के बैंक और पब्लिक सेक्टर के इन्सुरेंस कम्पनीज के जॉइंट वेंचर के रूप मे हुआ था,

जो इंडियन इंडस्ट्रीज को फाइनेंसियल सर्विस प्रोवाइड करवाती थी। बाद में इस कम्पनी का नाम ICICI बैंक कर दिया गया और इसके पेरेंट कम्पनी को भी इसमे मर्ज कर लिया गया। ICICI बैंक ने सन 1998 में अपनी इंटरनेट बैंकिंग की सेवाएं शुरु की। सन 2001 में आईसीआईसीआई बैंक ने बैंक ऑफ मदुरा का अधिग्रहण किया।

इसके बाद 2002 में , ICICI और ICICI बैंक के बोर्ड और डायरेक्टर्स के द्वारा ICICI और इसके दो पूर्ण स्वामित्व वाली फाइनेंस सहायक कम्पनीयों ICICI CAPITAL SERVICES LIMITED और ICICI PERSONAL FINANCIAL SERVICES LTD को ICICI बैंक मे विलय की मंजूरी दे दी गई। सन 2020 में यस बैंक में 1000 करोड़ के इन्वेस्टमेंट के बाद ICICI बैंक का यस बैंक मे 5 फीसदी की शेयर होल्डिंग बन गई।

ICICI बैंक का वर्तमान –

ICICI बैंक देश का दूसरा सबसे बड़ा प्राइवेट बैंक है। भारत में आईसीआईसीआई बैंक के करीब 5275 ब्रांचेज के साथ साथ करीब 16000 ATMS हैं। आईसीआईसीआई बैंक के वर्तमान समय में 17 से भी अधिक देशों में इसकी अपनी सब्सिड्रीस हैं। इस बैंक के कुल कर्मचारियों की संख्या करीब 1 लाख के आस पास है। ICICI बैंक के वर्तमान CEO और MD  “ मिस्टर संदीप बख्सी “ हैं और चेयर पर्सन गिरीश चंद्र चतुर्वेदी हैं।

ICICI बैंक की उपलब्धियां –

सन 1987 मे ICICI LTD ने UTI के साथ मिलकर CRISIL की स्थापना की थी जो की देश का पहला प्रोफेशनल क्रेडिट रेटिंग एजेंसी थी।

सन 2002 में ICICI बैंक ने CIBIL को सेट करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जो कि देश का पहला क्रेडिट बयूरो है। CIBIL का मतलब क्रेडिट इनफार्मेशन ब्यूरो ऑफ इंडिया लिमिटेड होता है। CIBIL लोगों की लेनदारी के इतिहास के बारे मे बताता है और इसी के आधार पर लोगों को बैंक से लोन मिलता है।

ICICI बैंक के कार्य – 

अन्य बैंको की तरह आईसीआईसीआई बैंक भी लोगों को कई तरह की बैंकिंग सर्विसेज प्रोवाइड कराती है जिसमे कई सेवाएं ऑफलाइन के साथ साथ ऑनलाइन भी हैं। यह लोगों के सेविंग, करंट और फिक्स्ड डिपाजिट खातें खुलवाती है। यह लोगों को कई तरह के लोन भी प्रोवाइड करवाती है जैसे की होम लोन, व्हीकल लोन आदि। आईसीआईसीआई (Full form of ICICI in Hindi) बैंक डेबिट के साथ साथ क्रेडिट कार्ड भी लोगों को प्रोवाइड करती है

ताकि लोगों को पैसों की लेन देन मे दिक्क़त ना हो। यह लोगों को घर से ही खाते खुलवाने का ऑफर भी देती है, जिसमे आप घर में बैठे 2 ही किसी भी तरह के खाते खुलवा सकते हैं। इसकी ऑनलाइन बैंकिंग सर्विस भी है, जिसमे से हम आसानी से अपने पैसो का लेन देन बिना एटीएम या बिना बैंक के कर सकते हैं। ऑनलाइन सर्विस में हम अपना बैंक बैलेंस भी चेक कर सकते हैं। यह बैंक लोगों को डिजिटल लॉकर भी प्रोवाइड करती है।

आईसीआईसीआई बैंक ने “ICICISTACK” नाम से एक ऑनलाइन सर्विस भी शुरु की है जिसमे पेमेंट ऑप्शन, डिजिटल अकाउंट , कार लोन्स, इन्सुरेंस, इन्वेस्टमेंट्स और् लोन जैसी सेवाएं उपलब्ध हैं।

विदेशों मे ICICI बैंक की उपस्थिति – 

ICICI बैंक के 17 से भी अधिक देशों मे इसकी उपस्थिति या ब्रांच हैं जिसमें से CANADA, USA, SINGAPORE, UK PLC, QATAR, SOUTH AFRICA, CHINA, OMAN, HONGKONG, GERMANY, BELGIUM, BANGLADESH, MALAYSIA और INDONESIA जैसे देश शामिल हैं।

ICICI बैंक और इसका विवाद – 

अक्टूबर 2018 में, आईसीआईसीआई (Full Form of ICICI in Hindi) बैंक की सीईओ चंदा कोचर को उनके पद से हटा दिया गया जिसका सबसे बड़ा कारण बैंक करप्शन था। चंदा कोचर पर भ्रष्टाचार के कई आरोप लगे। जिसके बाद 2019 में एक इन्क्वायरी पैनल के रिपोर्ट आने के बाद चंदा कोचर को उनके पद से हटा दिया गया। सन 2019 में inforcement directorate के द्वारा चंदा कोचर के करीब 78 करोड़ से भी अधिक मूल्य के असेट्स को सिज कर लिया गया।

सन 2013 में भी ICICI बैंक के 18 कर्मचारियों पर ब्लैक मनी को वाइट करने का आरोप लगा। जिसके बाद RBI के इन्क्वायरी के फलस्वरूप इन 18 कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया।

एक समय में ICICI बैंक को अपने ऋणों की वसूली के लिए अनुचित व्यवहार करने का आरोप भी लगा। ये आरोप तब लगने शुरु हुए जब आईसीआईसीआई बैंक के लोन रिकवरी एजेंटो और बैंक के कर्मचारियों ने बकायेदारों को धमकाना शुरु किया। जिसके बाद कुछ आत्महत्या के मामलों में जो सुसाइड नोट्स मिले उनमे बैंक वसूली के तरीको को आत्महत्या का कारण बताया गया। इसके चलते ICICI बैंक को कानूनन रूप से भारी कीमत चुकानी पड़ी। बाद में सन 1999 में ICICI बैंक NYSE पर लिस्टेड होने वाली पहली भारतीय कम्पनी बनी।

EMI FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है EMI, पूरी जानकारी

ICICI बैंक की सहायक कम्पनियां –

ICICI बैंक की बहुत सारी सहायक कंपनीयाँ हैं जो  कई अन्य  तरह की सेवाएं प्रदान करती हैं। इनमे से कुछ कम्पनीयाँ हैँ –

ICICI LOMBARD GENERAL INSURANCE COMPANY LTD, ICICI PRUDENTIAL LIFE INSURANCE COMPNY LTD, ICICI HOME FINANCE COMPANY LTD, ICICI DIRECT इत्यादि।


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment