GST FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है GST, पूरी जानकारी।

Spread the love
  • 1
    Share

GST Full Form in Hindi, GST Ka Pura Naam Kya Hai, GST क्या है, GST Ka Full Form Kya Hai, GST का Full Form क्या है,  GST meaning, GST क्या क्या कार्य होता है। इन सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में दिया जाएगा। 

साथियों! जीएसटी का नाम तो आप सबों ने सुना ही होगा, GST क्या है आप जानते हैं? यदि नहीं तो चलिए आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको जीएसटी के बारे में सारी जानकारी देंगे । जीएसटी के बारे में जानना आपके लिए बहुत ही जरूरी और फायदेमंद होगा क्योंकि यह आमतौर पर आज के वर्तमान समय में लोगों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले शब्द है जो आपकी  कार्यप्रणाली में भी काफी सहायक होगी। यदि आप अब तक नहीं जानते हैं कि जीएसटी है क्या, तो हम आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से जीएसटी के बारे में पूरी जानकारी के साथ उपस्थित हुए हैं, चलिए देखते हैं।

साथियों इस आर्टिकल के माध्यम से आपको जीएसटी का फुल फॉर्म क्या होता है ? इसका मतलब क्या है? जैसी कई सारी जानकारी देंगे। इसे जानने के लिए आप इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें जिससे आपको सटीक जानकारी जीएसटी के बारे में मिल सके।

GST का फुल फॉर्म क्या है? ( GST Full Form in Hindi) 

 GST का पूरा नाम  है Goods and Services Tax. यदि इसका मतलब हिंदी में आप समझना चाहते हैं तो जीएसटी का मतलब होता है वस्तु एवं सेवा कर।

GST क्या है? (What is GST in Hindi?)

   जीएसटी एक प्रकार का इनडायरेक्ट टेस्ट है जो पूरे देश में 2017 ईस्वी में लागू हुई थी। जीएसटी बिल लागू होने से पूरा देश बाजार बदल चुके हैं और अधिकतर लोग इनडायरेक्ट टैक्स जैसे  मनोरंजन शुल्क, वेट सेवा कर, लॉटरी टैक्स आदि इत्यादि भरने लगे हैं और ज्यादातर अप्रत्यक्ष कर जैसे केंद्रीय उत्पाद शुल्क (Excise), मनोरंजन, विलासिता, लॉटरी टैक्स, सेवा कर (Service Tax), वैट (Vat) आदि जीएसटी में समाहित हो गए हैं। जीएसटी के माध्यम से पूरे देश में आपको एक ही अप्रत्यक्ष कर देना होगा।

जीएसटी कितने प्रकार के होते हैं नाम बताएं? (What are the name the types of GST?)

    जीएसटी चार प्रकार के होते हैं जो इस प्रकार है:-

1. केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (CGST)

2. राज्य माल और सेवा कर (SGST)

3. एकीकृत माल और सेवा कर  (IGST)

4. केंद्रशासित माल और सेवा कर (UTGST)

GST किस देश में सबसे पहले लागू की गई और कब? (In which country GST was first implemented and when in Hindi?)

   जीएसटी सबसे पहले फ्रांस देश में लागू की गई थी और वह 1954 ईस्वी में लागू हुई।

GST कैसे लगाया जाता है? इसकी गणना फार्मूला क्या है? (How is GST levied?  What is its calculation formula?)

     GST लागू = (उत्पाद x% GST दर की मूल लागत) राशि / 100.

नेट कीमत = अच्छा + GST लागू राशि की लागत।

भारत में GST क्यों जरूरी है ? (Why GST is necessary in India?)

GST लागू होने का मतलब या मुख्य उद्देश्य यह है कि पूरे देश यानी कि भारतवर्ष में एक प्रकार का ही समान कर लागू हो सके। देश में जो कर दाता होते हैं, उसे जीएसटी का रजिस्ट्रेशन कराना पड़ता है क्योंकि GST पहले भी बहुत से करों की जगह ले चुकी है। भारत का वर्तमान कर ढांचा टैक्स स्ट्रक्चर बहुत ही मजबूत और जटिल है।

भारतीय संविधान के अनुसार मुख्य रूप से वस्तुओं पर लगने वाला कर राज्य सरकार और केंद्र सरकार के ही पास है। इसलिए देश में कई तरह के कर लागू हो रहे हैं, जिससे देश की वर्तमान और आधुनिक व्यवस्था बहुत ही मजबूती से आगे बढ़ रही है। छोटे व्यवसायियों एवं बड़े व्यवस्थाओं सभी के लिए कानूनों का पालन करना बहुत ही कठोर एवं मुश्किल हो गया है।

KYC FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है KYC, पूरी जानकारी

GST के क्या फायदे हैं? (What are the benefits of GST in Hindi?)

शुरुआत में GSTऔर कार्यान्वयन भारतीय कर सुधार में एक महत्वपूर्ण स्थान रखती थी।  जीएसटी के कई गुना फायदे देखने को मिलते हैं। इस लेख में, हम जीएसटी के विभिन्न फायदे और नुकसान को देखेंगे जो व्यवसायियों को जानना जरूरी है। जीएसटी लागू होने के कई सारे फायदे हुए हैं जैसे कई प्रकार के टैक्स देने से आपको छुटकारा मिला है। इससे कर की वसूली करते समय अधिकारियों द्वारा कर में हेराफेरी की संभावना बहुत ज्यादा रहती थी,

पर अब ऐसा नहीं है। आप इसका फायदा यह भी देख सकते हैं कि संस्था या एक व्यक्ति पर कई बार टैक्स लगाने की जरूरत नहीं पड़ती क्योंकि इसके सारे टैक्स वसूल लिए जाते हैं। जीएसटी का लक्ष्य कर संग्रह के नेटवर्क को विस्तृत करना और प्रक्रिया को व्यापार और विकास के अनुकूल बनाना है। तो चलिए देखते हैं इसके क्या क्या फायदे हैं:-

• GST ने कई सारे कर जैसे सेवा कर, लग्जरी कर, केंद्रीय उत्पाद शुल्क आदि कर को जोड़ा है, जिससे कि इसकी गणना और संग्रह प्रक्रिया काफी सरल हो चुकी है।

• उद्योग विशेषज्ञों का कहना है कि वस्तुओं और सेवाओं की लागत में कमी जीएसटी के कारण ही हुआ है जिसके परिणाम स्वरूप कई वर्जित कर की वजह से सेवाओं की कीमत में बहुत बढ़ोतरी हुई है।

• कपड़ा उद्योग जैसे क्षेत्रों के लिए बहुत आवश्यक नियम लगाया है जीएसटी ने। ये असंगठित क्षेत्रों में रोजगार देने के साथ-साथ रेवेन्यू जनरेट करते हैं जिससे वह काफी अनियमित रहते है।

जीएसटी की मुख्य विशेषताएं क्या-क्या है? (What are the main features of GST?)

जीएसटी की मुख्य विशेषताएं निम्नांकित है, जो इस प्रकार है –

• लोगों के द्वारा प्राप्त किए जाने वाले जितने भी वस्तुएं हैं जैसे अल्कोहल को छोड़कर अन्य सभी वस्तुओं पर GST लागू है।

• GST जो राज्य सरकार द्वारा लगाए जाते हैं जैसे राज्य वेट खरीद कर, केंद्र बिक्री कर आदि कई ऐसे हैं, जिसपर राज्य सरकार GST लगाती है।

• जीएसटी तंबाकू पर भी लगाए जाते हैं इसके अलावा केंद्र उत्पादक शुल्क भी लगता है।

•  कच्चा तेल, डीजल, पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस आदि कई विशिष्ट पदार्थ पर भी जीएसटी लगाए जाते हैं।

        ऐसा यदि हम देखें तो जीएसटी कुल मिलाकर भारत में कर एकत्रित करती है। इसलिए कहा जा सकता है कि जीएसटी ने एक-एक कर के अवधारणा को सुनिश्चित बनाया है।

GST के लाभ एवं हानियां क्या-क्या है? (What are the profits and losses of GST in Hindi?)

GST के निम्नलिखित लाभ एवं हानियां हैं, जो इस प्रकार हैं –

GST के लाभ:-

पंजीकरण की उच्च सीमा निर्धारित करना ।

रसद की बेहतर दक्षता करना।

कैस्केडिंग प्रभाव को समाप्त करना।

असंगठित क्षेत्रों को विनियमित ढंग से निर्धारित करना इत्यादि।

GST के हानियां:-

स्कूल की फीस में वृद्धि।

घर के किराये में वृद्धि।

बिजली के बिल में वृद्धि।

बैंक व निवेश प्रबंधन सेवाएं।

तंबाकू उत्पाद की वृद्धि।


Spread the love
  • 1
    Share
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  

Leave a Comment