EDI FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है EDI, पूरी जानकारी

Spread the love

EDI Full Form in Hindi, ED Ka Pura Naam Kya Hai, EDI क्या है, EDI Ka Full Form Kya Hai, EDI का Full Form क्या है, EDI meaning, EDI क्या क्या कार्य होता है। इन सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में दिया जाएगा। 

दोस्तों! EDI के बारे में तो आपने पहले भी सुना ही होगा लेकिन क्या आप जानते हैं कि EDI full form in Hindi क्या है? यदि नहीं तो EDI के बारे में जानना आपके लिए बेहद ही फायदेमंद साबित हो सकता है क्योंकि यह आज के समय में आमतौर पर लोगों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले शब्द हैं

जो आपकी जीवनशैली में काफी मदद कर सकते हैं। यदि आप अब तक नहीं जानते कि EDI full form in Hindi क्या है तो हम आपके लिए इस आर्टिकल में EDI full form in Hindi के साथ-साथ इससे जुड़ी जानकारी लेकर आए हैं, जिसकी मदद से आप इसके बारे में सभी जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं।

इस आर्टिकल में हम आपको EDI full form क्या होता है?, EDI का क्या मतलब है?, EDI से जुड़े काम क्या हैं? जैसी सभी जानकारियां बताने वाले हैं। इसे जानने के लिए आप इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़ें क्योंकि यहां हमने EDI full information in Hindi के बारे में संपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाई है। EDI के अंतर्गत आने वाली बात और कार्य यहां निम्नलिखित हैं –

EDI का फुल फॉर्म क्या है?( EDI Full Form in Hindi) 

EDI का पूरा नाम या फुल फॉर्म Electronic Data Interchange होता है।

EDI क्या है? (What is EDI in Hindi?)

EDI किसी भी कम्प्यूटर का एक ऐसा कम्युनिकेशन सिस्टम है जिसकी मदद से किसी एक कम्प्यूटर से किसी दूसरे कम्प्यूटर में डाटा का स्थानांतरण यानि ट्रांसफर आसानी से किया जा सकता है। डाटा के स्थानांतरण और ट्रांसफर में किसी व्यक्ति के हस्तक्षेप और पेपर वर्क की जरुरत नहीं होती है इसीलिए ऐसे डाटा ट्रांसफर के लिए EDI यानि Electronic Data Interchange का इस्तेमाल किया जाता है।

जब किसी कम्पनी या व्यक्ति को ऑफलाइन माध्यम से डाटा, डॉक्युमेंट्स या जानकारी ना भेज कर ऑनलाइन माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक तरीके से भेजा जाए तो उस इलेक्ट्रॉनिक तरीके के माध्यम को EDI यानि Electronic Data Interchange कहते है। EDI एक standardized फॉर्मेट है जिसकी मदद से डाटा का आदान प्रदान आसान तरीके से किया जा सकता है।

UAE FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है UAE, पूरी जानकारी

EDI का इस्तेमाल क्यों किया जाता है? (Why is EDI used in Hindi?)

कम्प्यूटर डाटा के ट्रांसफर के समय किसी भी तरह के पेपर वर्क का काम नहीं किया जाता है और ना ही इस स्थानांतरण या ट्रांसफर के दौरान किसी व्यक्ति का हस्तक्षेप होता है इसीलिए डाटा और डॉक्युमेंट्स का ऑनलाइन ट्रांसफर के लिए EDI का इस्तेमाल किया जाता है।

आज के समय में B2B e-commerce में EDI का सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता है क्योंकि EDI ज्यादा मात्रा में डाटा को bidirectional format में बदल कर या व्यवस्थित कर बिना किसी पेपर वर्क के कम समय में ट्रांसफर कर सकता है। EDI यानि Electronic Data Interchange का इस्तेमाल व्यवसायिक तौर पर जानकारी के अदल बदल के लिए किया जाता है।

EDI के क्या फायदे होते हैं? (What are the benefits of EDI in Hindi?)

आज के समय में EDI का प्रयोग बहुत ही ज्यादा होने लगा है क्योंकि EDI से डाटा ट्रांसफर के कई फायदे देखे जाते है।

EDI डाटा और डॉक्युमेंट्स का स्थानांतरण या ट्रांसफर करने के लिए काफी कम समय लेता है और यह पूरी क्रिया इलेक्ट्रॉनिक तरीके से होती है। EDI के डाटा ट्रांसफर में कम्प्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है जिसके कारण उसमें गलतियां होने की गुंजाइश या उम्मीद कम होती है। EDI में technical complexity बहुत कम होती है जिसके कारण डाटा का आदान प्रदान आसान हो जाता है।

EDI से डाटा ट्रांसफर करने में पेपर का या हस्ट लिखित डॉक्युमेंट्स का थोड़ा भी इस्तेमाल नहीं किया जाता है जिसके कारण पेपर की भी बचत होती है और गलतियां भी कम होती हैं। पेपर वर्क ना होने के कारण EDI डाटा के ट्रांसफर की कीमत भी बहुत कम होती है। EDI की मदद से बेहतर तरीके से डाटा का ट्रांसफर होता है और आदान प्रदान कि accuracy भी बढ़ती है।

EDI किस प्रकार काम करती है? (How does EDI work in Hindi?)

EDI में डाटा ट्रांसफर के लिए कम्प्यूटर की आवश्यकता होती है जो इलेक्ट्रॉनिक तरीके से डाटा का ट्रांसफर करता है। डाटा को EDI के द्वारा ट्रांसफर करने के लिए पहले डॉक्युमेंट्स और डाटा जिसे भेजना है, उसे इकट्ठा कर के व्यवस्थित तरीके से तैयार करना होता है। जब वह डाटा या डॉक्युमेंट्स तैयार हो जाए तो उसे ट्रांसलेटर सॉफ्टवेयर के माध्यम से ट्रांसलेट कर EDI के फॉर्मेट में बदला जाता है

और इसे EDI फॉर्मेट में बदलने के बाद स्थानांतरण के लिए तैयार हो जाता है। उसके बाद जब यह तैयार हो जाए तो बिज़नेस सहयोगी से बात कर डाटा का ट्रांसफर कर सकते हैं। EDI द्वारा डाटा का ट्रांसफर करने के लिए HTTPS, HTTP और FTP जैसे कम्युनिकेशन प्रोटोकॉल्स की विधियों को इस्तेमाल किया जाता है। इस डॉक्युमेंट्स को पाने वाला यानि की प्राप्तकर्ताओं के पास तब तक रहता है जब तक वह उस डॉक्युमेंट्स को अपने मेल बॉक्स से प्रोसेस कर देख नहीं लेता है।

EDI का प्रयोग कौन करता है? (Who Uses EDI in Hindi?)

यूं तो EDI का इस्तेमाल कोई भी व्यक्ति अपने डॉक्युमेंट्स या डाटा को एक जगह से दूसरी जगह ऑनलाइन तरीके से भेजने के लिए करता है लेकिन इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल व्यवसायिक क्षेत्र में किसी बिज़नेस के दौरान दो ग्राहकों या बिज़नेस पार्टनर्स के बीच किया जाता है। EDI का प्रयोग ज्यादातर वैसी कम्पनियां करती हैं जिनका काम ऑनलाइन तरीके में ज्यादा होता है। जिनका काम इलेक्ट्रॉनिक रूप पर आधारित है या ऑनलाइन रूप पर निर्भर करता है वैसी कम्पनियां अपने बिज़नेस पार्टनर के साथ डॉक्युमेंट्स का ट्रांसफर करने के लिए EDI का प्रयोग करती है।

EDI का इस्तेमाल कब से और कहां किया जाता है? (When and where is EDI used in Hindi?)

कई लोग सोचते हैं कि EDI और उसका इस्तेमाल आज के आधुनिक समय में किया जा रहा है जब कि यह सच नहीं है। EDI का इस्तेमाल साल 1960 से ही किया जा रहा है और उस समय में इसे कम्प्यूटर एक्सचेंज टू कम्प्यूटर (Computer Exchange to Computer) के नाम से प्रयोग में लाया जाता था। इसमें किसी कम्पनी के बिज़नेस डॉक्युमेंट्स यानि व्यवसायिक दस्तावेजों को ऑनलाइन तरीके से कम्प्यूटर की मदद से भेजा और पाया जाता था। EDI का इस्तेमाल बिज़नेस के साथ साथ Invoices और Purchase Orders में सबसे ज्यादा किया जाता है।


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment