July 28, 2021
dm Full form

DM FULL FORM IN HINDI ? DM KA FULL FORM ? DM KA PURA NAAM

Spread the love
  • 1
    Share

DM FULL FORM IN HINDI

DM Full Form in Hindi, DM Ka Pura Naam Kya Hai, DM क्या है, DM Ka Full Form Kya Hai, DM का Full Form क्या है,  DM meaning, DM क्या क्या कार्य होता है। इन सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में दिया जाएगा। 

DM FULL FORM

D = district 

M = magistrate

District Magistrate

DM कोन होता हैं

District Magistrate जीने हम लोग DM के रूप से जानते हैं।एक भारतीय प्रशासनिक सेवा यानी Indian Administrative Service (IAS) अधिकारी भी कहा जाता  है, जो भारत में एक जिले के सामान्य प्रशासन के रूप में सबसे वरिष्ठ कार्यकारी Dm के रुप मे नियुक्ति होता हैं ।चूंकि जिला मजिस्ट्रेट जिले के जिले के में कई आतंक होता है तो DM को ही राहत देने जाना पड़ता है।इसलिए इस DM को जिला कलेक्टर के रूप में भी जाना जाता है, और  साथ ही संभागीय आयुक्त की देखरेख में पदाधिकारी काम करता है, (IAS)के रूप में भी जाना जाता है। DM FULL FORM

जिला DM या Collector एक जिले के मुख्य कार्य करता होते हैं। वह ज़िले के प्रशासन को सुचारू रूप से  से चलाने की कोसी करते है।

DM का वेतन कितना होता है।

दोस्तों अगर DM की वेतन की बात करे तो DM की हर महीने लगभग 75000 हज़ार से 1.6 लाख के बीच मे इनकी हर महीने की salary होती है क्योंकि DM एक IAS  होता है DM FULL FORM

इसीलिए DM की सैलरी भी इसी के अंतर्गत आती है और  DM salary के अलावा बहुत सी सुविधाएं मिलती है DM की salary सीनियर service के अंतर्गत आती है इनको एक निजी घर और एक निजी गाड़ी और बहुत सी ऐसी सुविधाएं भी दी जाती है जिनका लाभ DM को मिलता रहता है। DM FULL FORM

DM बनने के लिये योग्यता 

 DM या जिला मजिस्ट्रेट बनने के लिये आपको किसी भी विषय से किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक कॉलेज से  graduation की डिग्री प्राप्त होनी चाहिए अगर आप एक बार स्नातक ( graduate ) करने के बाद आप DISTRICT MAGISTRATE बनने के लिये होनी वाली IAS की परीक्षा तैयारी कार सकते है।

UPSC परीक्षा के तीन चरण

1.प्रारंभिक परीक्षा(Primary exam for IAS)

2.मुख्य परीक्षा(Main exam for IAS)

3.इंटरव्यू(lnterview for IAS)

1.प्रारंभिक परीक्षा(Primary exam for IAS)

दोस्तों आपके प्रारंभिक परीक्षा के अंतर्गत दो exam कराया जाता है। पहले exam में आपसे 100 प्रश्न पूछे जाते हैं और दूसरे exam में आपसे 80 प्रश्न पूछे जाते हैं। यह दोनों परीक्षाएं 200-200 नंबर के होते हैं। अगर आप इस परीक्षा को पास कर जाते हैं तब आपको मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है।

2.मुख्य परीक्षा(Main exam for IAS)

जो विद्यार्थी प्रारंभिक परीक्षा को पास कर लेता है सिर्फ वही मुख्य परीक्षा में भाग ले सकता है। इस मुख्य परीक्षा के अंतर्गत आपको 9 परीक्षाएं देनी होती है। जो लगभग 1750 अंक के होते हैं।

आप का चुनाव केवल 7 पेपर के आधार पर ही किया जाता है बाकी दो के पेपर्स मे केवल आपको पास होना होता है। अब अगर आप सफलतापूर्वक मुख्य परीक्षा पास कर जाते हैं। तब आपको lnterview के लिए बुलाया जाता है।

3.इंटरव्यू(lnterview for IAS)

IAS परीक्षा का यह तीसरा चरण काफी कठिन भरा होता है। क्योंकि इसमें आपको अपनी सूझबूझ के अनुसार सवालों के जवाब देने होते हैं। अगर आप इस lnterview को पास कर लेत हैं तब आप एक ias अधिकारी बन जाते हैं।

लेकिन यह इतना आसान नहीं होता है। क्योंकि यहां पर अधिकतर ऐसे सवालों को पूछा जाता है। जो हमारी मानसिक क्षमता और सोचने समझने , निर्णय लेने की योग्यता को परखा जाता है। तीसरा चरण पास करने के बाद आप एक ias officer बन जाते हैं। Ias अधिकारी बन जाने के बाद अगर आपका प्रमोशन होता है तब आप एक DM पद के लिए योग्य चुन लिए जाते है। आप किस जिले के dm बनना चाहते हैं इसका चुनाव आप खुद भी कर सकते हैं।

DM के अधिकार क्या है।

जिला प्रशासन के 3 प्रमुख कार्य हैं:

1. जिले मे शान्ति और व्यवस्था बनाये रखना DM का कार्य होता है।

2.  भूमि से लेकर कई भी विवाद ना हो। इसी लिए Dm की अनुमति होती हैं

3. लोगों को सुविधाएं और सेवाएं प्रदान कर सभी क्षेत्रों में जिले का विकास करवाना DM के हित मे होता है । जिले का सर्वोच्च अधिकारी जिलाधीश या DM होता है । 

DC और DM में क्या अंतर है !

DC और DM दोनों ही अफसर होते हैं, जिनके नाम उनके कार्य क्षेत्र के अनुसार अलग अलग होता हैं.

 DC का पूरा नाम “District Collector”होता है,  जबकि DM का पूरा नाम “District Magistrate”होता है, 

DC भूमि का मूल्यांकन, भूमि अधिग्रहण, विभिन्न करों का संग्रह, कृषि ऋणों का वितरण, आदि जैसे छत्रों में होने वाली परेशानियों संभालता है जबकि DM कानून व्यवस्था का रखरखाव करवाने की सछम रहता है

IAS और DM में क्या अंतर होता है?

IAS का पूरा नाम कुछ इस तरह है “Indian Administrative Services” है और DM का पूरा नाम “District Magistrate” है.

 IAS एक प्रशासन के रूप में जाना जाता है, जिसकी कई शाखाएं होती हैं, जिनमे से DM भी एक है.

प्रत्येक DM एक ऑफिसर होता है जबकि प्रत्येक IAS ऑफिसर, DM नहीं होता है, क्यूंकि वो DM के अलावा कलेक्टर, आदि भी हो सकते हैं.

 जिस प्रकार एक माँ के कई बेटे हो सकते हैं, उसी प्रकार IAS के भी कई शाखाएं हैं और DM भी उसके एक बेटे अर्थात शाखा का रूप है.

IAS के अंदर DM, कलेक्टर, आदि जैसी कई अलग अलग पोस्ट शामिल होती हैं.

एक IAS ऑफिसर को ही DM बनाया जा सकता है.

Conclusion

तो दोस्तों, आपको  के बारे में जानकारी हिंदी में। अच्छी लगी होगी हमे उम्मीद है इस पोस्ट को पढ़ कर आप DM full form In Hindi (DM मीनिंग इन हिंदी) समझ गए होंगें और अब अगर आपसे कोई पूछेगा कि DM का मतलब क्या होता है? तो अब आप उसे DM मीनिंग इन हिंदी बता सकेंगे।

अगर आपको हमारा ये DM Information In Hindi पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी ज़रूर Share कीजिए और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल हो, तो उसे Comment में लिख कर हमें बताए।

Aur jankar

IPL FULL FORM क्या है ? IPL का पूरा नाम किया है ?

ATM का Full Form क्या होता हैं. ATM का अविष्कार किसने किया था


Spread the love
  • 1
    Share
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  

One thought on “DM FULL FORM IN HINDI ? DM KA FULL FORM ? DM KA PURA NAAM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *