DM FULL FORM क्या है? DM कोन होता हैं? IAS और DM में अंतर

Spread the love

DM FULL FORM क्या है

नमस्कार दोस्तों आज मैं आप लोगो को बताऊगा की DM का FULL FORM क्या होता हैं। जब भी आप सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करते हैं तो आपके मन मे DM का एक खेयाल आता है।कि हैम भी DM के पद पर रहते तो कितना अच्छा होता।लेकिन कोई आप से पूछे कि दम का FULL FORM क्या होता है तो आप नही बता पाते है।तो मैं आज आप लोगों को बताऊगा की DM का FULL FORM क्या होता हैं।इसके अलावा DM के बारे में और भी जानकारी देने की कोसी करेंगे। full form of dm

DM FULL FORM

D = district 

M = magistrate

District Magistrate

DM कोन होता हैं

District Magistrate जीने हम लोग DM के रूप से जानते हैं।एक भारतीय प्रशासनिक सेवा यानी Indian Administrative Service (IAS) अधिकारी भी कहा जाता  है, जो भारत में एक जिले के सामान्य प्रशासन के रूप में सबसे वरिष्ठ कार्यकारी Dm के रुप मे नियुक्ति होता हैं ।चूंकि जिला मजिस्ट्रेट जिले के जिले के में कई आतंक होता है तो DM को ही राहत देने जाना पड़ता है।इसलिए इस DM को जिला कलेक्टर के रूप में भी जाना जाता है, और  साथ ही संभागीय आयुक्त की देखरेख में पदाधिकारी काम करता है, (IAS)के रूप में भी जाना जाता है।

जिला DM या Collector एक जिले के मुख्य कार्य करता होते हैं। वह ज़िले के प्रशासन को सुचारू रूप से  से चलाने की कोसी करते है।

DM का वेतन कितना होता है।

दोस्तों अगर DM की वेतन की बात करे तो DM की हर महीने लगभग 75000 हज़ार से 1.6 लाख के बीच मे इनकी हर महीने की salary होती है क्योंकि DM एक IAS  होता है इसीलिए DM की सैलरी भी इसी के अंतर्गत आती है और  DM salary के अलावा बहुत सी सुविधाएं मिलती है DM की salary सीनियर service के अंतर्गत आती है इनको एक निजी घर और एक निजी गाड़ी और बहुत सी ऐसी सुविधाएं भी दी जाती है जिनका लाभ DM को मिलता रहता है।

DM बनने के लिये योग्यता 

 DM या जिला मजिस्ट्रेट बनने के लिये आपको किसी भी विषय से किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक कॉलेज से  graduation की डिग्री प्राप्त होनी चाहिए अगर आप एक बार स्नातक ( graduate ) करने के बाद आप DISTRICT MAGISTRATE बनने के लिये होनी वाली IAS की परीक्षा तैयारी कार सकते है।

DM के अधिकार क्या है।

जिला प्रशासन के 3 प्रमुख कार्य हैं:

1. जिले मे शान्ति और व्यवस्था बनाये रखना DM का कार्य होता है।

2.  भूमि से लेकर कई भी विवाद ना हो। इसी लिए Dm की अनुमति होती हैं

3. लोगों को सुविधाएं और सेवाएं प्रदान कर सभी क्षेत्रों में जिले का विकास करवाना DM के हित मे होता है । जिले का सर्वोच्च अधिकारी जिलाधीश या DM होता है । 

DC और DM में क्या अंतर है !

DC और DM दोनों ही अफसर होते हैं, जिनके नाम उनके कार्य क्षेत्र के अनुसार अलग अलग होता हैं.

 DC का पूरा नाम “District Collector”होता है,  जबकि DM का पूरा नाम “District Magistrate”होता है, 

DC भूमि का मूल्यांकन, भूमि अधिग्रहण, विभिन्न करों का संग्रह, कृषि ऋणों का वितरण, आदि जैसे छत्रों में होने वाली परेशानियों संभालता है जबकि DM कानून व्यवस्था का रखरखाव करवाने की सछम रहता है

IAS और DM में क्या अंतर होता है?

IAS का पूरा नाम कुछ इस तरह है “Indian Administrative Services” है और DM का पूरा नाम “District Magistrate” है.

 IAS एक प्रशासन के रूप में जाना जाता है, जिसकी कई शाखाएं होती हैं, जिनमे से DM भी एक है.

प्रत्येक DM एक ऑफिसर होता है जबकि प्रत्येक IAS ऑफिसर, DM नहीं होता है, क्यूंकि वो DM के अलावा कलेक्टर, आदि भी हो सकते हैं.

 जिस प्रकार एक माँ के कई बेटे हो सकते हैं, उसी प्रकार IAS के भी कई शाखाएं हैं और DM भी उसके एक बेटे अर्थात शाखा का रूप है.

IAS के अंदर DM, कलेक्टर, आदि जैसी कई अलग अलग पोस्ट शामिल होती हैं.

एक IAS ऑफिसर को ही DM बनाया जा सकता है.

Aur jankar

IPL FULL FORM क्या है ? IPL का पूरा नाम किया है ?

ATM का Full Form क्या होता हैं. ATM का अविष्कार किसने किया था


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *