CID FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है CID, पूरी जानकारी

Spread the love
  • 1
    Share

CID Full Form in Hindi, CID Ka Pura Naam Kya Hai, CID क्या है, CID Ka Full Form Kya Hai, CID का Full Form क्या है,  CID meaning, CID क्या क्या कार्य होता है।आज इन सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में दिया जाएगा। 

CID ka Full Form

CID Ka full form , Crime investigation Department होती है. इसको हिंदी में अपराध जांच विभाग भी कहां जाता है. यह भारतीय राज्य पुलिस की एक जांच और खुफिया जासूस शाखा है. यह पुलिस संगठन की सबसे महत्वपूर्ण इकाइयों में से एक मानी जाती है और इसका नेतृत्व Additional Director General of Police (ADGP) करता है.

CID भारत में बहुत प्रसिद्ध है. इसका एक कारण ए भी है कि CID का नाम आपने फिल्म व टीवी सीरियल में बहुत बार सुना होगा. CID भारत की राज्य Police का Crime investigation Department है जो किसी भी अपराध की जांच बहुत गंभीरता और संत से करता है. CID विभाग आमतौर पर खुफिया रूप से कार्य को आजम करता है तथा इसके Member कोई विशेष वर्दी नहीं पहनता है और सामान्य कपड़े में ही रहते हैं जिससे उनको कोई पहचान नहीं सकते है। और यह Crime की जांच पड़ताल कर सके और मुगिरिम गिरफ़्तार कर सके. CID Ka full form

यह मुख्यालय पुणे में स्थित है. CID भारत सरकार द्वारा सौंपे गए निर्दिष्ट मामलों की जांच करता है. CID का स्थापना ब्रिटिश सरकार द्वारा सन 1902 में police आयोग की सिफारिश पर देश में कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए गठित किया गया था. इस विभाग के पास अधिकारियों की अपनी अपनी रैंक होती है जो आमतौर पर सादे कपड़ों में काम को आजम देते हैं. इन अधिकारियों को जासूस या CID अधिकारी के रूप में जाना जाता है CID Ka full form

DIG KA FULL FORM KYA HAI ?DIG KA PURA NAAM

CID कैसे काम करती है

CID को राज्य में हुए संगीन अपराधो के केस दिए जाते है। चूंकि यह राज्य द्वारा संचालित संगठन है इसलिए यह राज्य की पुलिस की सहायता से भी अपने कार्य करती है। इसके अलावा इसका खुद का विभाग तो होता ही है। राज्य में जो बड़े आतंकी संगठन होते हैं उन्हें अपना निशाना बनाती है और CID कभी छोटे केस में नहीं आती है।

       इस विभाग में काम करने वाले अधिकारियों को  CID  ऑफिसर के रूप में जाना जाता है CID श्और सरकार और DGP Director General of Police (पुलिस महानिदेशक) द्वारा सौंपे गए मामलों की जांच करता है। इस विभाग के प्रमुख के पद पर  (ADGP) Additional Director General of Police (अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक) हैं एवं जिसे (IGP)Inspector General of Police (IGP)पुलिस महानिरीक्षक)  द्वारा सहायता प्रदान की जाती है।

CID  बनने के लिए योग्यता

CID बनने के लिए उम्मीदवार को सबसे पहले भारत का नागरिक होना चाहिए CID में सब इंस्पेक्टर अधिकारी के रूप में शामिल होने के लिए उम्मीदवार के न्यूनतम योग्यता किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री होना जरूरी है

CID को एक कांस्टेबल के रूप में शामिल होने के लिए उसके पास आवश्यक न्यूनतम योग्यता 12वीं या 10 वीं पास होना जरूरी है CID अधिकारी बनने के लिए भारतीय सिविल सेवा जोकि संघ लोक सेवा द्वारा हर साल आयोजित की जा रही परीक्षा में भाग लेना होता है आज के समय में हमारे देश में ऐसे बहुत से विश्वविद्यालय हैं जो स्नातक स्तर पर अपराध विज्ञान में कोर्स प्रदान करते हैं सीआईडी अधिकारी बनने के लिए यह कोर्स आपको मदद करती है इसीलिए अगर आपको शुरुआत में CID अधिकारी बनना है तो आप इसी कोर्स में एडमिशन कराएं CID Ka full form

ASI FULL FORM IN HINDI ? ASI KA PURA NAAM

CID में भर्ती –

आपराधिक जांच विभाग में प्रवेश करने के दो तरीके हैं। एक सीधे राज्य police  से पदोन्नति के माध्यम से है। स्नातक स्तर की पढ़ाई के बाद पहली बार, पुलिस विभाग में शामिल हों, आपको अपनी पृष्ठभूमि या वरिष्ठता के अनुसार बुजुर्गों की पसंद के अनुसार cid ​​के वार्ड में रखा / स्थानांतरित या पदोन्नत किया जाएगा।

Cid एजेंट बनने के लिए एक वर्दीधारी अधिकारी के रूप में कम से कम दो साल की आवश्यकता होगी। फिर आप cid ​​कार्यालय स्टेशन में स्थानांतरण का अनुरोध कर सकते हैं, आपको प्रशिक्षित किया जाएगा। आपके प्रशिक्षण के दौरान, आपको एक प्रशिक्षु के रूप में जाना जाएगा। प्रशिक्षण 2 साल का होगा, प्रशिक्षण के बाद, एक पूर्ण लिंगधारी बन जाएगा।

एक अन्य विकल्प संघ के सिविल सेवा आयोग द्वारा किए गए indian सार्वजनिक सेवाओं की समीक्षा का मसौदा तैयार करना है। समीक्षा के लिए अधिसूचना आधिकारिक upsc वेबसाइट पर पोस्ट की गई है जिसे उम्मीदवारों को किसी भी जानकारी के लिए पढ़ना होगा।

परीक्षा में एक लिखित परीक्षा, साक्षात्कार और शारीरिक परीक्षा शामिल है। साक्षात्कार में सफल होने के लिए समाज में वर्तमान घटनाओं का विस्तृत ज्ञान होना आवश्यक है।

CID के विशिष्ट कार्यों में शामिल हैं:-

  •  गंभीर अपराध की जाँच करना
  •  दवा दमन ऑपरेशन करना 
  •  आपराधिक खुफिया जानकारी इकट्ठा, विश्लेषण और प्रसार करना
  •   पूर्व-रोजगार पृष्ठभूमि की जांच का संचालन करना 
  • लापता व्यक्तियों की जांच का संचालन करना 
  •  आंतरिक मामलों की जांच का संचालन करना 
  •  भौतिक और नशीली दवाओं के सबूत की हिरासत बनाए रखना 
  •  सुरक्षात्मक सेवाएं प्रदान करें
  • Police प्रमुख द्वारा निर्देशित संवेदनशील या विशेष रुचि जांच करना

सीबीआई और CID में क्या अंतर है?

तो दोस्तों, अब आपने यह जान लिया है की CBI और CID क्या होता है। चलिए चलिए हम बात करते हैं कि CID और CBI में क्या अंतर होता है। यदि देखा जाय तो दोनों एक जैसे कार्य करते हैं लेकिन कुछ मायने में इनके कार्यों में अंतर होता है। आइए जानते हैं यानी वो कौन सी चीजें हैं जो CID और CBI को एक दूसरे से अलग बनाती हैं।

1. यदि दोनों के कार्यक्षेत्र की बात की जाय तो CID का कार्यक्षेत्र बहुत छोटा होता है। CID एक स्टेट के अंदर घटित होने वाली घटनाओं की जांच पड़ताल करती है और इससे जुड़कर काम करती है जबकि CBI पूरे देश में होने वाली अलग अलग घटनाओं की जांच का काम संभालती है।

2. CID के सामने आने वाले सभी मामलों को राज्य सरकार और उच्च न्यायालय द्वारा संदर्भित किया जाता है जबकि CBI के अंतर्गत आने वाले मामलों को केंद्र सरकार, उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय द्वारा संदर्भित किया जाता है।

3. CID देश भर में होने वाले आपराधिक मामलों जैसे कि दंगा, हत्या, अपहरण, चोरी और हमले के मामले सहित राज्य में होने वाले दूसरे आपराधिक मामलों की भी जांच करती है। जबकि CBI का कार्यक्षेत्र CID से बड़ा होता है। यह राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय लेवल के घोटालों धोखाधड़ी और हत्या जैसे मामलों की देश और विदेश में जांच करती है।

4. कोई भी व्यक्ति CID बनना चाहता है, तो उसे राज्य सरकार द्वारा आयोजित पुलिस परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी और उसके बाद उसे अपराध विज्ञान यानी Criminology की परीक्षा पास करनी होती है। जबकि CBI में शामिल होने के लिए SSC Board द्वारा आयोजित की जाने वाली CGPE (Combined graduate preliminary exam) परीक्षा को पास करना होता है।

5. यदि कार्य की बात की जाए तो CID दंगा मामलों, हत्या के मामलों और कई और अधिक सहित राज्य के भीतर आपराधिक मामलों से निपटता है। जबकि CBI का काम देश भर में आर्थिक और भ्रष्टाचार के मामलों से संबंधित है, जिसमें अंतर्राज्यीय संशोधन भी शामिल हैं।

6. CID की स्थापना British Government द्वारा 1902 में की गई थी जबकि सीबीआई की स्थापना 1941 में Special Police Department के रूप में की गई थी।

सीआईडी का Phone नंबर क्या है

अगर आप किसी मुश्किल में पड़ गए हो और आप पुलिस को कॉल कर रहे है और नहीं लग रहा है तो आप CID को कॉल करके भी बुला सकते हैं जब CID का फोन नंबर नहीं जानते हैं तो मैं आपको बता रहा हूं कि CID का फोन नंबर क्या है? 

तो दोस्तो CID का phone number 18003456270 है। आप इस number पर कॉल करके कहीं भी कभी भी CID को बुला सकते है। हम आपको यह भी बता दे रहे है कि यह number toll-free number है। यानि कि आपको इस नंबर पर कॉल करने के लिए किसी भी प्रकार का कोई balance नहीं लगता है।

Conclusion

तो दोस्तों, आपको  के बारे में जानकारी हिंदी में। अच्छी लगी होगी हमे उम्मीद है इस पोस्ट को पढ़ कर आप CID full form In Hindi (CID मीनिंग इन हिंदी) समझ गए होंगें और अब अगर आपसे कोई पूछेगा कि CID का मतलब क्या होता है? तो अब आप उसे CID मीनिंग इन हिंदी बता सकेंगे।

अगर आपको हमारा ये CID Information In Hindi पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी ज़रूर Share कीजिए और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल हो, तो उसे Comment में लिख कर हमें बताए। CID Ka full form


Spread the love
  • 1
    Share
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  

Leave a Comment