BIS FULL FORM IN HINDI – जानिए क्या है BIS, पूरी जानकारी

Spread the love

BIS Full Form in Hindi, BIS Ka Pura Naam Kya Hai, BIS क्या है, BIS Ka Full Form Kya Hai, BIS का Full Form क्या है,  BIS meaning, BIS क्या क्या कार्य होता है। इन सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में दिया जाएगा। 

दोस्तों! यदि आप अब तक नहीं जानते कि BIS full form in Hindi क्या है और इसके बारे में जानने के लिए काफी उत्साहित हैं तो हम आपके लिए इस आर्टिकल में BIS full form in Hindi के साथ-साथ इसकी सभी जानकारी लेकर आए हैं जिसकी मदद से आप इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

BIS full form क्या होता है? इसे जानने के लिए आप इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें क्योंकि यहां हमने BIS full information in Hindi के बारे में संपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाई है। BIS के अंतर्गत बताए जाने वाले विषय निम्नलिखित हैं –

1. BIS का फुल फॉर्म क्या है?(Full Form Of BIS in Hindi)

2. BIS क्या है? (What Is BIS in Hindi?)

3. BIS के कार्य और उद्देश्य क्या हैं? (What are the work and object of BIS in Hindi?)

4. BIS Hallmark क्या है? (What is BIS hallmark in Hindi?)

5. BIS का क्षेत्रीय कार्यालय कहाँ है? (Where is the regional office of BIS in Hindi?)

6. BIS हॉलमार्क चिन्ह क्या है? (What is the BIS hallmark sign in Hindi?)

7. BIS certificate क्या है? (What is BIS certificate in Hindi?)

8. BIS का License प्राप्त करने में कितना समय लगता है? (How long does it take to get a BIS license in Hindi?)

BIS का फुल फॉर्म क्या है?( BIS Full Form in Hindi )

BIS का full form, Bureau of Indian Standards होता है। इसके अलावा आपको यह भी बता दें कि NRC को हिंदी में भारतीय मानक ब्यूरो कहा जाता है।

आज के इस आर्टिकल में हम आपको BIS से जुड़ी कई जानकारियों को बताएंगे। यदि आप BIS के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो चलिए आगे बढ़ते हैं।

BIS क्या है? (What Is BIS in Hindi?)

BIS भारत का राष्ट्रीय मानक निकाय है जो मानकों की तैयारी और कार्यान्वन, प्रमाण से सम्बंधित योजनाओं के संचालन, testing lab के संगठन और प्रबंधन, उत्पादों और प्रणालियों के प्रमाणन योजनाओं का संचालन एवं उपभोक्ता मामले के कार्यों को संचालित करता है, साथ ही उपभोक्ता को जागरूक बनाने में लगा रहता है। यह अन्तराष्ट्रीय मानक निकायों के साथ मजबूत सम्बन्ध बनाने में लगा रहता है।

BIS भारतीय मानक संस्थान ( ISI ) का ही एक मानक या मानक संस्थान है जो संसद के एक अधिनियम में पास होकर 1 अप्रैल 1987 को हमारे देश के अस्तित्व में आया। अगर कोई भी ग्राहक BIS के किसी भी कार्यालय या उपभोक्ता अदालत में किसी भी प्रमाणित वस्तु के खराब या निम्न गुणवत्ता की शिकायत करता है तो BIS के तहत उसके समस्या एवं शिकायत का समाधान किया जाता है।

MLA FULL FORM IN HINDI ? MLA KA PURA NAAM

BIS के कार्य और उद्देश्य क्या हैं? (What are the work and object of BIS in Hindi?)

BIS उपभोक्ताओं के मामले, उत्पाद और सिस्टम प्रमाण सम्बन्धित योजना, मानक इत्यादि के लिए  कार्य करती है। दूसरे शब्दों में BIS किसी भी बहुमूल्य धातु और वस्तु को उसकी शुद्धता एवं गुणवत्ता का प्रमाण देता है।

 बहुमूल्य धातुओं और वस्तुओं का मतलब Gold, Silver, Platinum, Diamond इत्यादि जैसे धातुओं या वस्तुओं से है।

  अब इसके कार्यों और उद्देश्यों की और विस्तार से व्याख्या करते हैं –

• किसी वस्तु के गुणवत्ता के प्रमाण से संबंधित मानकीकरण करना।

• किसी वस्तु के मानकीकरण और गुणवत्ता दोनों को नियंत्रित करना ।

• BIS का यह कार्य व उद्देश्य है कि वह मानकों की मान्यता के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक रणनीति तैयार करे।

• मानक का निर्माण करना।

• उत्पादों के प्रमाण से सम्बंधित योजनाएँ बनाना।

योजनाएँ बनाना।

• विदेशी निर्माता प्रमाणीय सम्बन्धी योजना को तैयार करना।

• हॉल मार्किंग योजना को निर्गत करना।

• प्रयोगशाला से मान्यता प्राप्त योजना का निर्माण करना।

• उत्पाद सम्बन्धित योजनाओं को लागू करना।

• उपभोक्ता संबंधी किसी भी गतिविधियों पर नज़र रखना।

• उपभोक्ता की समस्याओं और शिकायतों का समाधान करना।

 किसी भी देश की बहुमूल्य धातु और वस्तु उस देश के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण होती है, अगर उसमें भी मिलावट होने लगे तो देश की अर्थव्यवस्था पर बुरा असर तो पड़ेगा ही साथ ही उपभोक्ताओं के भरोसे का कत्ल होगा एवं उनके स्वास्थ्य के साथ भी खिलवाड़ होगा, इसलिए BIS की कार्यप्रणाली देश में उपयोग/उपभोग की जाने जाने वाली नकली और मिलावटी धातु और वस्तुओं को रोकती है एवं उस पर अपनी होलमार्क मुहर लगाकर यह सुनिश्चित करती है कि वह धातु या वस्तु शुद्ध है या नहीं और कितना प्रतिशत शुद्ध है।

• इसके कारण यह उपभोक्ताओं की सुरक्षा एवं भरोसे का कत्ल होने से बचाती है।

• इससे देश के राजकोषीय नुकसान में कमी आती है साथ ही देश की अर्थव्यवस्था में बढ़त होती है।

• इससे उपभोक्ताओं के बीच गुणवत्ता वाले उत्पाद का भरोसा बना रहता है।

• BIS के शुद्धता का प्रमाण होने पर आयात और निर्यात दोनों को बढ़ावा मिलाता है।

BIS Hallmark क्या है? (What is BIS hallmark in Hindi?)

BIS धातु और वस्तु की शुद्धता को प्रमाणित करने के लिए BIS Hallmark Code का इस्तेमाल करता है और यह BIS Hallmark code इस बात का प्रमाण होता है कि वह धातु या वस्तु कितना प्रतिशत शुद्ध है। BIS होलमार्क उपभोक्ताओं के लिए सुरक्षित एवं विश्वसनीय गुणवत्ता की गारंटी होता है।

 हम इसे एक उदहारण के द्वारा भी समझ सकते हैं –

  Gold की पूर्ण शुद्धता को 24 कैरेट में मापा जाता है, अब अगर सोने पे हॉलमार्क अंक 769 का मुहर है तो इसका मतलब सोना 76.9% प्रतिशत शुद्ध है, इसके अलावा

• यदि हॉलमार्क मुहर का अंक 999 है, इसका मतलब सोना 99.9% प्रतिशत शुद्ध है।

• यदि हॉलमार्क अंक का मुहर 560 है इसका मतलब सोना 56% प्रतिशत शुद्ध है।

• यदि हॉलमार्क अंक का मुहर 101 है इसका मतलब सोना 10.1% प्रतिशत शुद्ध है।

• यदि हॉलमार्क अंक का मुहर 461 है इसका मतलब सोना 46.1% प्रतिशत शुद्ध है।

  1. BIS का क्षेत्रीय कार्यालय कहाँ है? (Where is the regional office of BIS in Hindi?)

BIS की स्थापना 23 December 1986 को हुई थी। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है। भारत देश के इतने बड़े क्षेत्रफल और जनसंख्या को देखते हुए इसके पाँच अन्य क्षेत्रीय कार्यालय स्थापित किये गए हैं जो कि चंडीगढ़, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता और दिल्ली में है। इसके अलावा इसके 20 अन्य शाखा कार्यालय भी हैं। एक कॉरपोरेट निकाय के स्तर पर BIS में केंद्रीय या राज्य सरकार, वैज्ञानिक, अनुसंधान संस्थान, उद्योग एवं उपभोक्ता संगठनों के कुल 25 सदस्य हैं।

BIS हॉलमार्क चिन्ह क्या है? (What is the BIS hallmark sign in Hindi?)

प्रत्येक धातु या वस्तु की शुद्धता के अनुसार हॉलमार्क संख्या को प्रिन्ट किया जाता है, अलग-अलग देशो में हॉलमार्क अंक भिन्न-भिन्न हो सकते हैं। यह इस बात पर निर्भर करती है कि उस देश की होलमार्किंग प्रणाली क्या है। BIS हॉलमार्क किसी भी सोना, हीरा, चाँदी, प्लैटिनम इत्यादि के जेवरों के किसी भी हिस्से पर हो सकता है। BIS हॉलमार्क का एक प्रमुख चिन्ह है जिससे हम उसकी पहचान कर सकते हैं।

BIS certificate क्या है? (What is BIS certificate in Hindi?)

BIS certificate भारत सरकार के द्वारा धातुओं या वस्तुओं की गुणवत्ता के हित में प्रमाणित किया जाने वाला एक certificate है, अपने शब्दों में हम यह कह सकते हैं कि बाहरी देश से आयात होने वाली बहुत सारी खराब या बहुत कम गुणवत्ता वाली वस्तुओं & धातुओं पर रोक लगाने के लिए हमारे देश की सरकार ने धातु या वस्तु की अपने एक  भारतीय मानक को तय किया है।

इस बारे में सरकार यह कहती है कि भारत में जो भी आयात की गई वस्तुएँ आएँगी उसे इस Indian Standard Certificate से का approval लेना होगा और जब वह वस्तु इस Indian Standard के सभी मापदंड को पास कर लेगी तब ही वह वस्तु BIS certificate के साथ भारत आएँगी, इसका आशय यह है कि Indian Standard Certificate द्वारा Approved वस्तुएँ ही भारत में आएँगी और बाज़ार में बेची जाएँगी। BIS Full Form in Hindi

BIS का License प्राप्त करने में कितना समय लगता है? (How long does it take to get a BIS license in Hindi?)

BIS का license प्राप्त करने के लिए लगभग 1 महीने से 6 महीने तक का समय लगता है क्योंकि BIS उस product के गुणवत्ता की जाँच करता है और अपने Standard के अनुसार उसे प्रमाणित करता है तब ही उस वस्तु या धातु को Indian Standard Certificate approve करता है।

 BIS का license होना किसी भी manufacturer के लिए अतिआवश्यक एवं महत्वपूर्ण होता है। Indian Standard Certificate approved होने के बाद ही कोई भी manufacturer अपने product पर BIS के हॉलमार्क का मुहर लगा सकता है। BIS का हॉलमार्क मुहर लगाने के बाद उस product के प्रति लोगों का विश्वास कायम रहता है और लोग उसे पूरे विश्वास के साथ खरीदते हैं एवं अपने स्तर पर उसका उपयोग करते हैं।

यदि कोई manufacturer  Indian Standard Certificate के approval के बिना ही अपनी product पर BIS का हॉलमार्क मुहर लगाता है तो ऐसे स्थिति में BIS उस पर सख्त कानूनी कार्रवाई कर सकता है। BIS Full Form in Hindi

Conclusion

तो दोस्तों, आपको  के बारे में जानकारी हिंदी में। अच्छी लगी होगी हमे उम्मीद है इस पोस्ट को पढ़ कर आप Bis full form In Hindi (Bis मीनिंग इन हिंदी) समझ गए होंगें और अब अगर आपसे कोई पूछेगा कि Bis का मतलब क्या होता है? तो अब आप उसे Bis मीनिंग इन हिंदी बता सकेंगे।

अगर आपको हमारा ये Bis Information In Hindi पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी ज़रूर Share कीजिए और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल हो, तो उसे Comment में लिख कर हमें बताए।


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment